मोबाइल की एक छोटी सी किरण बड़ी लहर बन गई

 मोबाइल की एक छोटी सी किरण बड़ी लहर बन गई

 

नब्बे के दशक में संचार क्रांति के बाद, मोबाइल फोन अब केवल संचार और सूचना का स्रोत नहीं है बल्कि मनोरंजन का एक महत्वपूर्ण साधन बन गया है। आज हर कोई मोबाइल का दीवाना है। मोबाइल किसी की जरूरत है तो किसी के लिए फैशन। बहुत से लोग इसका उपयोग केवल संचार के लिए करते हैं और बहुतों को इससे कई आधुनिक सुविधाएं मिल रही हैं।

 

कभी मोबाइल का इस्तेमाल सिर्फ अमीर लोग ही करते थे लेकिन अब इसकी कम कीमत और ढेर सारी सुविधाओं के चलते इसे आम लोग इस्तेमाल करने लगे हैं। पहले यूजर को इनकमिंग और आउटगोइंग दोनों के लिए भुगतान करना पड़ता था, लेकिन अब इनकमिंग फ्री होने के कारण इसका दायरा व्यापक होता जा रहा है।

 

मोबाइल फोन का सबसे बड़ा फायदा यह है कि इसे एक जगह 'फिक्स' नहीं करना पड़ता है। यह एक ताररहित या वायरलेस फोन है। इसे जोड़ने के लिए किसी तार आदि का प्रयोग नहीं किया जाता है।यही कारण है कि इसे यात्रा के दौरान या अपनी कार में बैठकर यात्रा करते समय इस्तेमाल किया जा सकता है। इसके इस्तेमाल से दुनिया के किसी भी कोने में स्थित मोबाइल होल्डर से बात की जा सकती है।

 

मोबाइल की छोटी सी किरण बड़ी लहर बन गई है। आज की युवा पीढ़ी हर उस सुविधा को पाने के लिए बेताब है जो एक कंप्यूटर को मोबाइल से मिलती है। यही कारण है कि मोबाइल सेवा कंपनियां इसे लैपटॉप कंप्यूटर की सभी सुविधाएं प्रदान करने का प्रयास कर रही हैं। मोबाइल एस. एम। एस। (लघु संदेश सेवा) सुविधा ने ग्राहक आधार में जबरदस्त वृद्धि की है। एक ओर जहां मोबाइल फोन ने इंटरनेट से जुड़कर दुनिया को अपनी मुट्ठी में बंद करने का सपना पूरा किया है, वहीं दूसरी ओर इसके दुरुपयोग ने कई समस्याएं खड़ी कर दी हैं। आज का युवा शालीनता के नियमों की धज्जियां उड़ा रहा है और कुछ अनोखे अपराधों को जन्म दे रहा है। आइए जानें मोबाइल के बारे में तकनीकी जानकारी:

 

मोबाइल फोन रेडियो तरंगों के माध्यम से काम करता है। यह उच्च आवृत्ति तरंगों का उपयोग करता है। सबसे पहले जिस क्षेत्र में सेवा प्रदान की जानी है उसे छोटे भागों में बांटा गया है।ऐसे भौगोलिक भागों को 'कोशिका' कहा जाता है। यही कारण है कि कभी-कभी मोबाइल फोन को सेल फोन भी कहा जाता है। प्रत्येक सेल सेवा कंपनी द्वारा स्थापित एक ट्रांसमीटर (वेव ट्रांसमीटर) और एक रिसीवर (वेव रिसीवर) से लैस है। सेल में मोबाइल स्विचिंग सेंटर यानी एम. एस। सी। (एमएससी) भी स्थापित हैं। प्रत्येक कोशिका का एक सीमित प्रसार क्षेत्र या सीमा होती है। मोबाइल सिस्टम में एक विशेष प्रावधान किया गया है। जिसमें एक सेल के ट्रांसमीटर की रेंज खत्म होने के बाद आपका मोबाइल पलक झपकते ही अगली सेल के ट्रांसमीटर से कनेक्ट हो जाता है। यह सब एम. एस। सी। यह तकनीक के माध्यम से है। मोबाइल फोन को एक सेल से दूसरे सेल से कनेक्ट होने में इतना कम समय लगता है कि बात करने वाले को पता ही नहीं चलता कि वह पहली सेल के 'रेंज' को छोड़कर दूसरे के 'रेंज' में कब आ गया।

 

मोबाइल सिग्नल एक लम्बे ट्रांसमिटिंग टावर के माध्यम से संचार उपग्रहों से जुड़े होते हैं। जब आप कहीं दूर कॉल करना चाहते हैं, तो आपके फोन का सिग्नल स्थानीय ट्रांसमीटर और फिर मोबाइल के हाई पावर ट्रांसमीटर के जरिए सैटेलाइट तक पहुंच जाता है। ये उपग्रह पृथ्वी से उत्सर्जित मोबाइल रेडियो सिग्नल प्राप्त करते हैं। उपग्रह में इलेक्ट्रॉनिक उपकरण और सर्किट इसे शक्तिशाली बनाते हैं और इसे ट्रांसमीटर के माध्यम से पृथ्वी पर लौटाते हैं। उपग्रह द्वारा भेजा गया संकेत एक उच्च शक्ति रिसीवर के माध्यम से संबंधित सेल के रिसीवर तक पहुंचता है। इसके अलावा, यह संकेत सेल के ट्रांसमीटर के माध्यम से एक विशिष्ट आवृत्ति के माध्यम से अंतरिक्ष में छोड़ा जाता है। यह सिग्नल मोबाइल फोन द्वारा प्राप्त किया जाता है जिसके साथ सिग्नल की आवृत्ति 'मिलान' होती है।जाता है दूसरी ओर, मान लें कि विभिन्न मोबाइल फोनों को एक विशिष्ट रेडियो फ्रीक्वेंसी सौंपी जाती है।

 

जब ट्रांसमीटर द्वारा उत्सर्जित सिग्नल की आवृत्ति मोबाइल फोन से मेल खाती है, तो मोबाइल का रिसीवर सिग्नल को कैप्चर करने में सफल हो जाता है। इस प्रकार हम कह सकते हैं कि एक मोबाइल फोन केवल एक विशिष्ट प्रकार की आवृत्ति के साथ एक संकेत प्राप्त कर सकता है। इस बीच, यह विभिन्न आवृत्तियों के साथ प्राप्त संकेतों को अस्वीकार करता है। इस प्रकार हम देखते हैं कि मोबाइल प्रणाली मोबाइल स्विचिंग केंद्रों, ट्रांसमीटरों, रिसीवरों और संचार उपग्रहों की परस्पर क्रिया के साथ काम करती है।

 

नई पीढ़ी के मोबाइल में आधुनिक सुविधाएं भरी जा रही हैं। शोधकर्ताओं ने कई आशाजनक प्रौद्योगिकियां बनाई हैं। कुछ इसी तरह की प्रौद्योगिकियां हैं- जी। एस। एम। और सी। डी। एम। ए। जी मोबाइल में प्रयोग किया जाता है एस। एम।(जीएसएम) और सी. डी। एम। ए। (सीडीएमए) तीसरी पीढ़ी के

 

इसे डेटा सेवाओं के लिए फायदेमंद माना जाता है। जी।

 

एस। एम। मोबाइल और सी के लिए ग्लोबल सिस्टम का पूरा नाम। डी। एम। ए। कोड डिवीजन मल्टीपल एक्सेस का पूरा नाम है। इन आकर्षक तकनीकों में एयरटेल, टाटा इंडिकॉम, हच, एम. टी। एन। एल., रिलायंस और इंडिया मोबाइल द्वारा उपयोग किया जा रहा है। जी। एस। एम। प्रौद्योगिकी 30 kHz की आवृत्ति और 6.7 मिलीसेकंड की लंबाई के साथ एक संकीर्ण बैंड का उपयोग करती है। दूसरी ओर डी। एम। ए। इसका उपयोग डेटा को डिजिटल रूप देने के लिए किया जा रहा है। सी। डी। एम। ए। प्रौद्योगिकी से लैस मोबाइल एस. टी। डी। और मैं। एस। डी। लैंड लाइन फोन की तुलना में कॉल काफी सस्ते होते जा रहे हैं। सी। डी। एमए प्रौद्योगिकी के लिए धन्यवाद, 140 गीगाबाइट प्रति सेकंड की गति से डिजिटल डेटा का आदान-प्रदान किया जा सकता है। दूसरी ओर, मॉडेम के माध्यम से टेलीफोन लाइनों से जुड़े कंप्यूटर केवल 56 किलोबाइट प्रति सेकंड की गति से काम कर सकते हैं। इस तकनीक की बदौलत छोटे फोन से कंप्यूटर का काम किया जा सकता है। इस प्रकार की उन्नत तकनीक का उपयोग वर्तमान में केवल जापान, अमेरिका जैसे विकसित देशों में ही किया जा रहा है।

 

रिलायंस के आला अधिकारियों के मुताबिक ऐसी तकनीक को पूरे देश में तेजी से पहुंचाने के लिए 60 हजार किलोमीटर का ऑप्टिकल फाइबर नेटवर्क बिछाया गया है. इस संचार नेटवर्क से हजारों संचार ट्रांसमीटर जुड़े हुए हैं जो ऊंचे टावरों पर लगे होते हैं। इस हाई-स्पीड कंप्यूटर-चालित वेब को विशेष सॉफ्टवेयर का उपयोग करके मोबाइल सेवाओं के साथ एकीकृत किया गया है। इसके इस्तेमाल से ग्राहक बहुत ही कम कीमत में मोबाइल से पॉम-टॉप कंप्यूटर का काम ले सकता है।

https://instagram.com/supankamboj1?igshid=YmMyMTA2M2Y=

Comments
Supan Kamboj - Aug 17, 2022, 9:36 PM - Add Reply

OPPO oeo4ookl"o

You must be logged in to post a comment.
Supan Kamboj - Aug 17, 2022, 9:37 PM - Add Reply

Good

You must be logged in to post a comment.

You must be logged in to post a comment.

About Author

Hello friends my name is Supan I belong to punjab, india I am a student of ITI

Recent Articles
Oct 5, 2022, 1:46 AM Ali Arian
Oct 5, 2022, 1:45 AM Sumit Patil
Oct 5, 2022, 1:45 AM Shashank
Oct 5, 2022, 1:44 AM Sumit Patil